Thursday, August 22, 2013

क्या इसे मोहब्बत कहेंगे ?

सब शोर लगता है,
तेरी आवाज के सिवा
क्या इसे मोहब्बत कहेंगे ?

कितना चाहती हूँ
तुझसे दूर जाना !
पर कैसे खींच लेता है तू ,
बिना आवाज दिए !
क्या इसे मोहब्बत कहेंगे ?

कभी कभी गुस्सा आता है,
अच्छा ख़ासा संसार था मेरा,
तूने उजाड़ के जंगल कर दिया !
जंगल का सरसराता अकेलापन,
डराता भी है,  भाता भी है !
क्या इसे मोहब्बत कहेंगे ?

रात का अँधेरा, अब काटता नहीं है
दुःख का घना बादल, अब सताता नहीं है

कह जाती है आंखें तेरी कुछ ऐसा ,
बस दिल ही समझ पाता है !
मैं बेजुवां हो जाती हूँ !
क्या इसे मोहब्बत कहेंगे ?

Translation for my dear Husband :-)

Everything is just noise,
Except your sweet voice
Am I in love with you?

I try hard to go away
But you pull me like magnet
Without any words
Am I in love with you?

Sometimes I feel angry,
I had a small world of my ideas
You broke everything,
Left me alone in jungle
I feel scared of wildness
And same time I enjoy vastness
Am I in love with you?

The darkness of the night, no longer fear me
The cloud of sadness, no longer torture me

Whenever I look into your eyes,
They say something silent
Only my heart understands
And I become speechless
Am I in love with you?

1 comment: