Monday, December 19, 2011

Joy

I am feeling so much love and warmth in my heart
Tears are about to wet my eyes
Whomever I see I smile without reason
Joy is overflowing
Even my loud laughter can't contain.

You are so far, my love
But your soft silky voice
Makes me feel so near

Hold my hands , share my love
Create a beauty all around
Past is dead, future is nowhere

I removed dust from my eyes
Regained trust as I had when I was born

Now, only you, me and never ending joy
Going to walk journey of life together

Monday, November 28, 2011

आदत

मन फिर दुखी होने का बहाना ढूँढता है
चारों तरफ फूल ही फूल है
ये दो चार कांटे उठाकर,
मेरे पैरों में चुभोता है
शायद,
पुरानी आदत से मजबूर है

पर, मन की आदत ही है
ज़िन्दगी की जरूरत तो नहीं
कोशिश करूँगी तो बदल जायेगी
इतनी बड़ी बात भी नहीं !

My mind is searching excuse to become sad again
There is so much beauty around
But it has picked few thorns from somewhere
And now creating wounds in my soft feet
Its seems,
It has become in habit to remain sad
(It gets scared of happiness but sadness brings comfort to it)

But, its just a habit
To remain sad is not the need of life
If I try, It will change
Its not an impossible task:-)
Just a habit..
Instead of being sad,
Just become in habit to be joyful and full of laughter

Thursday, November 17, 2011

ज़रे ज़रे में खुदा है

कहते हैं, ज़रे ज़रे में खुदा है
है ज़रे ज़रे में खुदा अगर ?
तो मुझमे भी तो होगा
है जितना किसी और में
उतना ही होगा
तो फिर घबराना क्या ?

वही तो आंसू बनकर आँखों से गिरता होगा
वही तो मुस्कान बनकर होठों पर बिखरता होगा
वही तो हर इंसान के सीने में धड़कता होगा

है अगर हर तरफ चर्चा उसी का
तो फिर घबराना क्या ?

वही तो आसमान में रंग बनकर इठलाता होगा
वही तो नदी की धार में सितार बजाता होगा
वहीं तो हर पत्ते में थिरकता होगा

है अगर हर तरफ चर्चा उसी का
तो फिर घबराना क्या ?

वही तो तूफानों में जलजलें लाता होगा
वही तो आंधियों को हवा देता होगा
वही तो कफ़न में छुपकर हँसता होगा

है अगर हर तरफ चर्चा उसी का
तो फिर घबराना क्या ?

Tuesday, November 15, 2011

Desires

My desires lead me nowhere

I am too small, so are my desires
Little bigger house, little more money
Little better position, little more beauty

If I am not satisfied with what I have,
What little more will bring for me?

Every little more creates desire for little bit more
I remain empty every time as before

Nothing changes in me with little more
Same I am as I was
Then why running behind little more?

Existence takes me in her arms every time
Whisper the same message

Drop all your desires and surrender totally
You are at home with or without outer things

You are where you should be
Nothing else is needed to make you complete

Bring pray fullness in every moment
Make every action your destination
Nothing is big here, nothing is small

Wednesday, October 26, 2011

अच्छा हुआ

अच्छा हुआ,
जो हार गई !
जीत जाती,
तो खाली रह जाती !

हो जाते,
जो पूरे मेरे सपने,
बस उतना ही रह जाती !

शुक्र है,
जो टूट गए !
वो मेरे खिलोनें ,
नहीं तो मैं बच्ची ही रह जाती !

(I feel thankful that I have always lost in life
If I would have won, I would have remained empty.
If my dreams would have completed, I would have remained limited
I feel thankful that all of my toys broke down
If they wouldn't have broken, I would have remained immature whole life.)

If you can accept your defeat in every aspect with a smile and gratitude, you can see the purpose behind. The whole existence makes an effort to make you mature through different tools.. sometimes by sadness, sometimes by suffering, sometimes by defeat but purpose is not to make you down but to uplift you high :-)

Sunday, October 16, 2011

मेरे यार मेरा खुदा...

मंदिर-मस्ज़िद जाना क्यों ?
क्या रखा मक्का-मदीने में ?

मेरे यार की बाहों में ज़न्नत मेरी,
मेरे यार की आँखों में मेरा खुदा!

मेरे यार की पलकों में करूं नमाज़,
मेरे यार की सांसें मेरा तीर्थधाम!

मंदिर-मस्ज़िद जाना क्यों ?
क्या रखा मक्का-मदीने में ?

गवाई थी उम्र मैंन, कागज़ के टुकड़ों में!
भटक रही थी रूह मेरी, यूहीं सड़कों के गड्डों में !

वैसे तो इसे कोई मुकाम नहीं मिलता,
तेरी मुहब्बत ही मुकाम बन गई इसका !

अब मंदिर - मस्ज़िद जाना क्यों ?
क्या रखा मक्का-मदीने में ?

मेरे यार के हवालें मेरी उम्र सारी!
करूं इबादत बस अपने यार की !

Tuesday, October 11, 2011

Only you and you are needed

Sit Silently like a tree
Imagine an innocent child
Sucking his thumb
Keep aside your work and wife

Be patient
Soon day is going to come

When warmth of universal love will surround you
You will feel completely safe and secure
As if you are in arms of your lover
Whole existence is pouring love into your heart

Once you know the taste of this love
You will share your love with others
Not doing bargaining in return

No money no power no degree is criteria for it
Only you and you are needed
Everything else is already available

Be still...no movement whatsoever
Soon day is going to come

Hours will pass
You would not like to open your eyes
You will be utterly filled with your own presence
When you will open your eyes again,
You will not be the same
Neither world will be the same ever again

Once you know the taste of your own presence
You will rejoice your aloneness
Instead of running from it

No skill no religion no status is criteria for it
Only you and you are needed
Everything else is already available

Monday, October 10, 2011

Madhouse

I drop out from the Madhouse
Otherwise I will die in suffocation
I find only idiots all around me

Idiots who know nothing about love
Idiots who are full of garbage inside
Smiling outside
Idiots whose intelligence leads the same destination
Where non-intelligence leads

Alas!!!
I always believed these idiots
Gave my delicate life in their cruel hands
Cried for their approvement
Begged to certify my character
They kicked me left and right

Never questioning their identity
I felt myself down

Today, I dared to ask?
Who are they?
They all look so miserable
Who waste their life running behind non-valuable
They never danced to reach god
They never sing song in his gratitude
They miss real taste and truth about life
How come their words became so important to me?

Alas!!!
I was asking blind people to show me direction
Trusted in them more than my own voice
I willingly gave them power to dictate over me
Tell me what is right?
Tell me If I really fit as one of idiots in their Madhouse

Before these idiots throw me out
I myself drop out from the Madhouse
And reclaim all my power and freedom to be my own

Thursday, September 22, 2011

There is no misery in the world

There is no misery in the world
Only sleepy men choose to suffer

Don't blame God, Don't blame others
Only you design your destiny

If you don't have courage,
To stand what you feel inside
You will suffer rest of your life
As you have been since your birth

If you can't risk anything for your own happiness
How can you cross ocean of life with your rotten boat
It might break in middle and will leave you nowhere
(rotten boat means you have nothing but borrowed information and walk with the crowd to remain cozy:-))

I say it I know it
There is no misery in the world
Only sleepy men choose to suffer

Wake Up Wake Up
What are you doing with your life?
Is this what you really love?
Is this what you want to carry with you when you leave this body?

Wake Up Wake Up...
Its never too late

There is no misery in the world
Only sleepy men choose to suffer

गुरुवर

तूने तो आवाज दी थी
मैं सुन न सकी

तूने तो बाहें फैलाई थी
मैं देख न सकी

टटोल रही थी कांटें गलिहारे में
फूल खिलें थे छत पे
मैं खुशबू पहचान न सकी

उलझ गई संसारी बातों में
भूल गई मैं अभागन प्रीत तेरी

भरोसा जो तुझपर किया होता , मेरे गुरुवर
पार ज़िन्दगी की नईया हो गई होती

टुकुर टुकुर देखें आखें तेरी कहे मुझसे
नादान कली क्यों है इतनी उदास
अभी आधी ही तो निकली है
आधी तेरी हथेली में रखी है ज़िन्दगी

Tuesday, September 20, 2011

I am beautiful and perfect...

I am ready to let go everything
It doesn't make sense to carry anything
Universe is vast,where is the space for past

I forgive myself for every mistake
... I discontinue everything which brings pain
I am in this world to enjoy every moment

I say proudly every morning
I ignore all the standards of beauty
God has never made anything imperfect

I am beautiful and perfect exactly as I am

You make me feel complete...

I waited for you very long
Nobody has ever
...ever...
looked at me as you do
You make me feel so complete

I don't know our future
But I will never be empty again
Your eyes will be looking at me all the time
They will bring light in darkness
They will make me laugh in sadness
They will give hand when I fall
I will never be alone again
I don't know what destiny holds for us
But you are my last destination
I feel I have come home being in your arms
My search ended in your heart
you make me feel so complete

I have no desire for heaven
I have no desire for fame and name
You hold my hand and walk with me till the end
What else I need to smile in my life
you make me feel so complete

Its not passion,Its not emotion
Which will disappear with the time
Its my eternal love for you
It will grow higher and deeper every moment
You make me feel so.. so..complete
You make me feel so.. so..complete

Monday, September 12, 2011

महबूब मेरे

तू खुदा बन गया है मेरा
तुझे मुहब्बत करना मज़हब मेरा

तेरी आँखों में अपनी तस्वीर झाँक कर जागूँ
तेरी बाँहों में लिपट कर हर रात गुजारूं

ज़हर भी दे दे कोई तेरा नाम लेके
मुस्कुराके होठों से उसे चूम लूँ

तूने पूरा कर दिया है मुझे
अपना हमसफ़र बनाके
अब आ जाए मौत भी
तो मैं कोई सिकवा न करूँ

कहने दो करने दो ज़माने की जो मर्जी हो
लगाने दो बदनामी के दाग भी जो लगाने हो
मैं उफ़ तक न करूँ

गिरा दूं हर पर्दा
मिटा दूं हर दूरी

लुटा दूं अपनी हस्ती
करूँ हदें पार सारी
करूँ हदें पार सारी तेरी बंदगी में महबूब मेरे

Friday, August 12, 2011

शब्दों का ताना-बाना

शब्दों का ताना-बाना बुनते बुनते
मैं भूल ही जाती हूँ कि मैं हूँ कौन
भारी भरकम शब्दों से खेलने की आदत
लोगों से प्रशंसा सुनने की भूख
मुझसे बार बार झूठ बुलवा देती है

विचारों की लड़ियाँ कहाँ दम तोड़ती हैं
भावनाओं का समंदर कहाँ शुरू होता है
इसका एहसास ही नहीं रहता
विचारों और भावनाओं के झूले में
कभी इस छोर कभी उस छोर डोलती रहती हूँ
बीच से कहीं कुछ आधा अधूरा सा चुराकर
शब्दों का एक महल बनाती हूँ
जहाँ सच और झूठ में फासला नहीं रहता
कभी खुल जाये आँख गहरी नींद से
और ढह जाए शब्दों का महल
तो किसी कोने में बैठकर रो लेती हूँ

हे ईश्वर
इन शब्दों ने मुझे छली बना दिया
जो है वो ये कहने में असमर्थ
जो है नहीं
उसे कहने में इन्हें महारत हासिल
इनकी सुन्दरता इतनी अदभुत
कि मैं अपना होश खो बैठती हूँ
और सकपकाई सी उनके जाल में
हर रोज थोड़ा और फंसती जाती हूँ

अजीब बिडम्बना है
शब्दों द्वारा शब्दों से परे जाने की कोशिश
शब्दों की चौड़ी सी दीवार
मेरे और सच के बीच
जिसे मैं लांघ नहीं पाती
बार बार रास्ता भटक जाती हूँ
शब्दों का शोर ऐसी आंधी पैदा करता है
कि मेरे होश का दीपक बुझ जाता है

हे ईश्वर
कोई राह दिखा मुझे
शब्दों के कपट से तू ही बचा मुझे
लोगों से प्रसंशा सुनने की भूख से
थोड़ा सा ऊपर उठा मुझे
अपने ह्रदय का गान गा सकूँ
छल कपट झूठ के जाल से मुक्त रहूँ
इतना बुद्धिमान बना मुझे !

Monday, August 1, 2011

चेहरें...

रोज गुज़रते हैं
चेहरें हज़ार नज़रों के सामने से

कुछ मुस्कुराते हुए, कुछ सर झुकाते हुए
कुछ की आँखों में रोशनी के दिए
कुछ सबसे नाराज से
कुछ नई ज़िन्दगी का स्वागत करतें
कुछ अर्थी को कन्धा देतें

रोज गुज़रते हैं
चेहरें हज़ार नज़रों के सामने से

हर चेहरे में बसा है एक संसार
उसकी अपनी भाषा ,अपना भगवान्
चुप हैं फिर भी कुछ कहते से चेहरे
अपने अपने ख्वाबों को सच करने में लगे हुए चहरे
जाने कहाँ पहुचेंगे ये चेहरे

रोज गुज़रते हैं
चेहरें हज़ार नज़रों के सामने से

(I feel its incomplete ... but if I add anything to it, it will loose the meaning.)

Thursday, July 28, 2011

मैं

मैं मैं जैसी अच्छी,
मुझे तुम जैसा बनना क्यों ?
अगर हो गई तुम जैसी,
तो फिर मेरा होना भी क्यों ?

मुझे स्वीकार गुन-अबगुन अपने,
स्वयं को दुकड़ों में बांटना क्यों ?
नहीं है मेरा सत् इतना भी घृणित,
उसे ओढ़नी से ढांकना क्यों ?

English Translation

I am perfect as I am. Why should I be like any other person in the world?. If I become like any other person, then why should I even exist?. The other person is already there.

I accept my greatness and weakness with same love, Why should I divide my own self into parts? My real nature can't be so ugly/horrified. why should I hide it behind mask.

बैरी मन

पिया तेरा मन मुझसे बैर करे हैं
बिना वजह व्यंग कसे है

चाहे तो समझा अपने बैरी मन को, तुने ही नहीं
मैंने भी गवाया है खुद को , इस पथ पर

चाहे तो झटक दे कलाई मेरी, बीच दरिया में
लौट जा किनारे, फिर दर्शक बनने

मुझे तो शौक है दरिया का
डूबूं या उभरू,पार तो जाना ही होगा

Wednesday, July 27, 2011

पिया जी ...

शब्दों का मेला खड़ा अकेला
राहों में तेरी पलकें बिछाए

प्रीत ये कैसी तेरी पिया जी ..
दूर रहकर भी दूर रहो न तुम

मैंने ही मांगी थी तुमसे ये दूरियाँ
अब मन हर आहट पर दहल रहा है

झगड़ कर आंसु आँख से झलक गया है
मेरी शिकायत करने के लिए तुझे ढूंढ रहा है

Monday, July 25, 2011

बिदाई

मौत भी हसीन होती है दोस्त
इसे हंसकर गले लगाने दो
दुआ मत मांगों खुदा से दो -चार दिनों के लिए
शर्मिंदा होना पड़ेगा मुझे उसके दरवार में

जा रही हूँ जहाँ से आई थी
शुक्रिया आपका जो अपनी ज़िन्दगी में जगहे दी
ले जा रही हूँ आपके प्यार की सौगात बिदाई में

एक मुराद पूरी कर देना
एक गुलाब का पौथा लगा देना
ग़म सताये जो मेरे जाने का कभी
खिले गुलाब में मेरा चेहरा देख लेना

मातम मत मनाना मेरे जाने का कभी
तोहीन होगी मेरी और मेरे खुदा की !

Thursday, July 14, 2011

अपना अपना खुदा

जितने इंसान हैं यहाँ उतने ही खुदा हैं !
हर किसी ने अपना खुदा बना रखा है !
मिलती नहीं है सूरत तेरे खुदा की मेरा खुदा से !
बिना सूरत देखे तमाशा लगा रखा है !

जिसने देखी है उसकी एक झलक भी !
वो हर मज़हब से बेखबर हो गया !
जो रह गए है महरूम उसकी इनायत से !
उन्ही ने उसके नाम पे बबाल मचा रखा है !

Wednesday, July 13, 2011

इल्तज़ा

तेरे पास रहूँ या दूर कहीं !
कभी दुश्मन बनके, तुझे चोट न करू !

अगर मिले तू कभी अजनबी बनकर भी ,
मेरी पलकें शर्म से न झुकें !
इतनी पाक मुहब्बत रहे मेरी !

जो याद आये कभी तेरी, डबडबा जाए आँखें मेरी !
ख्वाब में भी, शिकायत न करू ज़माने से तेरी !
उस उंचाई तक लेकर जाय मुहब्बत तेरी !

तेरा होना न होना, किस्मत की बात है !
तेरे न होने से, कभी गवाऊं न खुद को मैं !

इतनी सी खुदा से इल्तज़ा है मेरी !

Friday, July 1, 2011

पर...

हाय रे ...व्यथा मेरी
आगे बढ़ रही हूँ
या फिसलकर नीचे गिर रही हूँ
ये भी जान नहीं पाती हूँ

पर ,
कुछ बदलता जा रहा है
कुछ हाथों से छूटता जा रहा है
घनघोर बादलों सा मेरा मन,
नदी जैसा शीतल होता जा रहा है

दुश्मनों की फ़िक्र नहीं,
दोस्तों से भी दूरी बनती जा रही है
हंसी तो पहले ही बेकाबू थी
अब आंसुओं से भी लगाब हो गया है
जाने अपने करीबियों को,
ये गहराई कैसे दिखा पाऊँगी !

पर,
जो भी साथ चला मेरे
न रहेगा उसका कोई अतीत
न आयेगा उसका कोई कल
शब्दों की झंझट छूट जायेगी
रहेगा शेष,
जो कहा न जा सके

नदी में कूद तो गई हूँ
न आये तैरना मुझे
कोई भी भंबर तबाह कर सकता है
पल में , मेरा अस्तित्व मिटा सकता है

पर ,
नदी को ही मेरी हिम्मत पर तरस आ गया है
वो उतना ही डूबने देती है
जितने में मेरी सांसे चलती रहे !

और तमाशा क्या खूब है
मैंने उसकी तली में भी जाकर साँस लेना सीख लिया

Thursday, June 30, 2011

फिर चला है दिल अकेला...

फिर चला है दिल अकेला ,
अपनी मंजिलों की तलाश में !
जाने किससे मुलाकात हो,
उस अजनबी शहर में !

होगें रस्ते अनदेखे से,
होगी गलियां गुमनाम सी !
न होगा कोई दुआ सलाम करने वाला !
फिर चला है दिल अकेला ,
कुछ नए दोस्ताने बनाने !

सड़के देखती होंगी राह मेरी
देती होंगी आवाज हवाएं वहां की !
मैं ही नहीं हूँ बेचैन उनके मिलन को !
उन्हें भी इंतज़ार रहता होगा मेरा !
फिर चला है दिल अकेला ,
उनके फ़साने सुनने और अपने कहने !

हर सफ़र में,
कुछ देकर आ जाती हूँ
कुछ लेकर आ जाती हूँ
न मैं मैं रहती हूँ
न वो शहर वो रहता है
फिर चला है दिल अकेला ,
थोड़ा सा लेने थोड़ा सा बाटने !

न जाने कितनी चट्टानों पर अपने निशा छोड़े हैं
न जाने कितने समन्दरों के रेत में खारोंदे बनाये हैं
न जाने कितने दरख्तों से दोस्ती की है
न जाने कितनी नदियों का संगीत सुना है
सबने बिना जाने बेसुमार प्यार किया है !
फिर चला है दिल अकेला ,
उनके उसी प्यार को पाने !

मन मेरे ...

मन मेरे ...
क्यों है तू बाबरा ,
जो मिलता है वो तुझे नहीं भाता
जो नहीं मिलता,
उसे पाना मकसद जो जाता तेरा !

ये भी कोई बात है भला,
तू रहे हमेशा सब पाकर भी प्यासा !
करू कितने भी जतन ,
तेरा प्याला खाली ही रह जाता !

हद है दोस्त तेरी,
नींद में भी तू भटकता रहता है
सपनों में,
कभी अतीत को कुरेदता है
कभी भविष्य के सपने बुनता है

क्या करू तेरा , तू ही बता दे !
न दोस्ती भली तुझसे,
न दुश्मनी से कुछ हासिल !
कोई बीच का मार्ग हो, तो समझा दे !

सच ये है ,
तू मुझसे, मैं तुझसे जुदा हो नहीं सकते!
तो ऐसा करते हैं ,
ज़रा-सा फासला दरमियां बना लेते हैं

मैं दूर से तुझे निहारती रहूँ !
न तेरी कुछ सुनु, न अपनी कुछ कहू ,

बता बाबरे मन कैसी रहेगी !

Friday, June 24, 2011

जोगन

जोगन बन गई हूँ तेरे इश्क में,
अब कुछ और मुझे भाय नहीं !
करू जाके फरियाद किससे,
फरियाद सुनने वाले से लगन लगी !

लोग पुकारे मुझे बाबली,
हूँ बिन बात खिलखिलाती रहती !
बेहोश होती तो होश में आ भी जाती,
क्या करू जब होश में बेहोशी रमने लगी !

लगा था दुनिया के काम काज में,
भूल जाऊगी नमाज़ पड़ना !
देख दुनिया का तमाशा,
नमाज़ पड़ने के सिवा सब बेमतलब लगा !

हर जन्म कंकड़ पथरों को ही बटोरा है ,
इस बार अपने इश्क में मुझे दीवाना बनने दे !
तुझे इज़ाज़त है हर दर्द देने की मुझे,
बस अपने और पास मुझे खुदा खींचता जाना !

जोगन बन गई हूँ तेरे इश्क में,
अब कुछ और मुझे भाय नहीं !
करू जाके फरियाद किससे,
फरियाद सुनने वाले से लगन लगी !

Thursday, June 23, 2011

झोका

सुन मेरी जान,
थोड़ा सा संभल,
क्यों है इतनी बेचैन!
जरा सा तो सब्र रख,
बस झोका है हवा का,
गुजर जायेगा !

बह मत जाना इसके संग,
सो मत जाना होकर तंग!
फिर इंतिहा की घड़ी आ गई है!
झोके से लौ टकरा गई है!
बुझ मत जाना चाहे जो हो!
जरा सा तो सब्र रख,
बस झोका है हवा का,
गुजर जायेगा !

कितने झोके आकर गए हैं,
पर तुझे कहा वो मिटा सके हैं!
फिर क्यों काँप जाती है,
इनकी आहट सुनकर?
जरा सा तो सब्र रख,
बस झोका है हवा का,
गुजर जायेगा !

मुस्कुरा तो दे मेरी जान,
इस बार झोके को देख!
अपने आप इसका दम निकल जाएगा!
तुझमे तो है हिम्मत तुफा से निकल जाने की,
झोके ने कैसे तेरी आँखें भर दी!
जरा सा तो सब्र रख,
बस झोका है हवा का,
गुजर जायेगा !

Saturday, June 18, 2011

कबूल है...

तेरा इश्क आरजू आवरू मेरी
तेरा इश्क जात जुबा मेरी
तेरा इश्क तो बन गया है इबादत मेरी
जो तेरी रज़ा है, वो मेरी रज़ा है
झुका दिया है सर तेरे क़दमों में,
अब जो भी तू करे, वो कबूल है

ये तेरे इश्क का जुनू है...
देखता भी तू है, दिखाई भी देता तू है
सुनता भी तू है, कहता भी तू ही है
उठती है नज़र जिस तरफ भी,
होता बस तू ही तू है

तेरा दिया गम भी मुझे अज़ीज़
तेरे काँटों में भी फूलों की महक
ये जो रोग लगा है तेरे इश्क का
फासला मिट गया गम और ख़ुशी का

ये मेरी ज़िन्दगी अमानत तेरी
तुझे दे दी, बचाया मैंने कुछ नहीं
झुका दिया है सर तेरे क़दमों में,
अब जो भी तू करे, वो कबूल है

------------------------
Many of my good friends don't understand Hindi so I am trying to translate it. I am not sure, if I would be able to justice:-)

Your love is my desire and prestige
Your love is my language and respect
Your love has become my prayer
Your wish is my wish
I surrender myself to you
Whatever you do to my life, I accept wholeheartedly

This the passion of love,
You are the one who watch, and you are the same who is watched (Inside me you are there and whomever I am watching... you are inside them also)
You are the one who listen, and you are the same who listen
In whatever direction, I see
I see only you everywhere

I enjoy sadness
I feel fragrance in thrones
When I fell in love with you,
There is no difference in joy and sadness

My life is your gift,
I am giving it to you without keeping anything
I surrender myself to you
Whatever you do to my life, I accept wholeheartedly!

Friday, June 10, 2011

I chose you because I know

I chose you because I know
You will never hurt me
If you ever do,
you will feel more pain than I do

I chose you because I know
You will never go away from me
If you ever go,
You will go only when you loose all hopes for being together

I chose you because I know
Even when my face is full of wrinkles and my hands shake
You will have same love in your eyes
you will hug me with same warmness


I chose you because I know
I can open every bit of mine without hesitation
You will accept me as I am without modifications
You will be with me to help us to become more beautiful and mature

I chose you because I know
You can bring me back to my sense when I go out of mind
You will leave me alone when I need it most
And hold me when I want you to be near me.

I choose you because I know
We both are pole apart and came from different paths
But you can understand my silence and tears
I don't need words to express my feelings

Thursday, May 19, 2011

मैं और मेरा मन

आज फिर मन मेरा,
मुझसे जीतने की जिद्द कर बैठा है
बीते हुए कल को,
खीचकर मेरे आज को तबाह कर रहा है

मैंने भी ठान ली है ,
जो चला गया, अच्छा या बुरा
वो दफ़न हो गया
मैं उसकी मज़ार पर फूल नहीं चड़ाऊगी
आज सारा कल हवा में उड़ा दिया मैंने
कल की सोच सोच मैं कहीं की न रही
आज उसे अपनी ज़िन्दगी से मिटा दिया मैंने
सुना मन तुने , बहुत हो चुकी है तेरी
अब है बारी मेरी

तू लाख जतन कर,
लेकर आ इसी जन्म का ही नहीं
सारे पिछले जन्मों का चिटठा
मैं तेरे साथ बहकर कहीं नहीं जाने वाली
तुझे जाना है, तो जा

मैं दूर से तमाशा देखुगी
तूने बहुत सताया है मुझे
बेमतलब की बातों में खूब उलझाया है मुझे
अब हो गए हैं तेरी मल्कियत के दिन पूरे
मैं एक नहीं सुनने वाली तेरी
आ नए नए बहानों से फुसला तू
पर मैं देख चुकी खाली है तेरी कटोरी
सुना मन तुने ,बहुत हो है चुकी तेरी
अब है बारी मेरी

तुझे क्या लगा था ?
मुझे लट्टू जैसा ज़िन्दगी भर नचाएगा
अंधेरों में भटकाएगा
मैं बेसहाय सी तेर साथ हो लुंगी
न रे ...ऐसा कैसे रे..
तू मैं नहीं है ,तू मेरा हिस्सा है
हिस्सा पूरे से जीत कैसे सकता है
तू सेवक है मेरा, मालिक मैं हूँ
सुना मन तुने ,बहुत हो चुकी है तेरी
अब है बारी मेरी
अब है बारी मेरी

Monday, May 16, 2011

तेरे जाने के बाद...

हम उजड़ जायेगे तेरे जाने के बाद
ये जताकर मेरे यार
क्यों?
हमारी कीमत गिरा देते हो
अपनी बड़ा लेते हो

तेरे जाने के बाद...
न सांसें धामी न धड़कने रुकी
न आँखों ने देखना छोड़ा
न कानों ने सुनने से इनकार किया
फिर कहा उजड़ गए हम

जब तुझे नहीं जाना था,
तब भी जिया करते थे हम
तुझे जानकर अनजाना करना पड़ा,
तो क्या जीना छोड़ देगे हम?

मुहब्बत करना तुझसे कोई खता नहीं थी हमारी,
तुझे रास नहीं आई ये मर्जी है तेरी!

शौक से जा शुरू कर अपनी ज़िन्दगी
पर कोई तोहमत लगाकर मत जा
जा माफ़ किया तेरी हर खता के लिए
तू बार बार माफ़ी मांगकर
पुराने ज़ख्मों को हवा देने मत आ!

तू न सही कोई और सही,
किसी और के नसीब में हमारा प्यार सही!

तू हाल चाल पूछकर हमारा,
अपने होने का एहसास दिलाने मत आ!
जो हो चूका है हमें उससे शिकायत नहीं
क्यों हुआ, कैसे हुआ, किसने किया
इन सबका हिसाब लगाकर
हमें समझाने बुझाने मत आ!

तू चला गया है, तो चला ही जा!
झूठी तसल्ली देने मत आ
मुहब्बत होती तो कोई और बात थी,
तू इंसानियत के नाते मत आ!

संभलना आता है हमें,
तू खुद को खुदा बनाने मत आ!

Wednesday, May 11, 2011

क्या करे वो..

मेरी मंजिल है सबसे ऊँची चोटी
पर मैं चट्टानों पर चढ़ जाती हूँ
वो चोट कर मेरे हाथों पर,
मुझे धकेल तो देता है
पर गिरने से पहले गोद में उठा लेता है
क्या करे वो,
अपनी मोहब्बत से मजबूर होता है

मैं समझ पथर को हीरा,
अपनी जान की बाजी लगा देती हूँ
वो पथर को छीन फेंक देता है
पर जान बचाने की खातिर मेरी
हर बचे पथर को हीरा बना देता है
क्या करे वो,
अपनी मोहब्बत से मजबूर होता है

हर मुराद मेरी ,
वो मांगने से पहले पूरी कर देता है
जब कभी मुझे दर्द में देखता है
मेरे साथ रात भर जागता है
पर मुझे गुजरना पड़ेगा इस आग से,
उस तक पहुँचने के लिए
यहीं पैगाम वो हर बार देकर जाता है
क्या करे वो,
अपनी मोहब्बत से मजबूर होता है

कैसे करू शुक्रिया उसका ,
उसकी इस मोहब्बत के लिए
मैं नादान नासमझ इंसान हूँ
शुक्रिया भी मुझे करना आता नहीं
पर वो खुदा है, मुझे खुदा बनाकर ही रहेगा
क्या करे वो,
अपनी मोहब्बत से मजबूर होता है

Friday, May 6, 2011

मौत

रह गई दुनियादारी पीछे
छूट गए धर्म-जात के जंजाल
अब मिट जाने की कोई परवाह नहीं
बर्बाद हो जाने का कोई डर नहीं

मौत तो आनी है देर सवेर
देख लुंगी जब दस्तक देगी
अभी गूँज जाने दो हंसी ज़रा-सी
पता चलने दो आसमान को,
मैं भी रहती हूँ इस धरती पर कहीं

आने दो परेशानियों का बबंडर
ज़िन्दगी भर तो वो रहनी है नहीं
जब बदलेगा मौसम वो चली जायेंगी
मुझे उनसे इतनी हम दर्दी रखनी क्यों?

नाच के मजे लूट लेती हूँ तूफानी रातों में
पता चलने दो अँधेरी रातों को भी
मेरा दिया कभी बुझता नहीं

जिसे आना है वो आये, जिसे जाना है वो जाये
बहुत दिया है मेरे महबूब ने
किसी के दगा या दर्द देने से
मेरा प्यार कम हो जाना नहीं

वो है मेरे साथ वो है मेरे पास
मुझे पता है मुझे जाना है कहाँ
अब छोटी-मोटी बातों में उलझना क्या?

जिसे सिसकना है ज़िन्दगी में वो सिसके
जिसे तूफानों का खौफ़ है वो मर-मर के जिए
मैंने तो मौत से ही दोस्ती कर ली है
अब ज़िन्दगी के उतार-चड़ाव से घबराना क्या?

Monday, April 18, 2011

Again and Again

I am in the grip of numerous patterns
I try my best to get rid of them
But they hold me from some corner
And make me a fool again and again

My life is led by them
So many new things knock my door
But I have become immune to them
And move in same circle again and again

I walk one step towards my goal
But loose little alertness on the path,
And my mind pulls me two steps backward
I slip back on the same spot again and again

My heart is content and complete
Away from competition and comparison
But my mind reminds me what a looser I am
I fall from heaven to hell again and again

Infinite energy is emerging in me
Thirsty to take shape of colors and words
My mind questions what I would gain from them
I miss an opportunity to create again and again

I never fell in love with a person
But with a list of criterion created by mind
My heart remained untouched every time
Still I go back to the same ditch again and again

I wish...
I had little more courage
And total trust in existence
I could ignore nonsense of mind
And follow my heart again and again

Wednesday, April 13, 2011

Have a little trust in me

Have a little trust in me
I will never break it
Open your heart slowly
Don't hide anything from me
Share your pain fearlessly
Warmth of our love will melt it
Don't go far away from me

Have a little trust in me
I have seen the whole world
Rare to find a man with a beautiful heart
How can I afford to loose you
Let life bring all problems
I will stand with you in every struggle

Have a little trust in me
I will never break it

Please forgive me for my lies

I have a confession to make
I never loved you...my love
All the promises I made
I will never fulfill any of them
Those were the tricks of mind
To keep you longer in life
Please forgive me for my lies

I have never shown my real self to you
I had to pretend to have your approval
Afraid to loose you and to be left all alone
My heart can't carry it any more
It has suffered enough because of fear
Now wants to drop all covers
Please forgive me for my lies

Sunday, April 10, 2011

ज़िन्दगी की कहानी अजीब होती है

ज़िन्दगी की कहानी अजीब होती है
तू सबसे करीब था मेरे कभी
आज कितना दूर रहता है

तेरा नाम लेकर सुबहे होती थी
तेरी सूरत देखकर रात शुरू होती थी
आज पूछता है तेरा नाम कोई
तो सोच में पड़ जाती हूँ

तुझे खुदा बनाया था मैंने अपना
तूने अपनी खुशियों का ज़नाज़ा निकला
तो शर्म आई मुझे
अपने खुदा को कितना नीचे गिरा दिया मैंने

तुझे महफूज़ रखा था हर सजा से मैंने
आज मेरे ही दिल से निकली बदुआ
तो हैरत में पड़ गई
एक दोस्त था मेरा
अब अजनबी भी न रहा
ज़िन्दगी की कहानी अजीब होती है

Thursday, April 7, 2011

Make me fly high in the sky

I wanna to fly high in the sky
Give me wings.. my love
Away from the crowd, Away from the world
Away from the past, Away from the future
Make me fly high in the sky
Break rule of gravitation
Do some manipulation
Form some illusion
And make me fly high in the sky

Madness is descending on me
Frustration is taking over me
Before they take me away
I wanna to taste experience of infinity
So my love....
Make me fly high in the sky

Reduce me from human to bird
Upgrade me from human to angel
Do whatever you want but answer my prayer.. my love
Make me fly high in the sky

I will never ask anything else
Just once only once
In exchange of my life
Give me wings
And make me fly high in the sky

Tuesday, April 5, 2011

लम्हें

ज़िन्दगी लम्हों में मिलती है
हमारी तमन्नाओ की ग़ुलाम कहाँ होती है
चाहो तो समेट लो, चाहो तो फेंक दो

हमारा साथ कुछ लम्हों का हो सकता है
जन्म जन्मान्तर के सपनों में खोकर
इन्हें क्यों तबाह करता है

ये जो गुज़र रहे हैं कुछ लम्हें
तेरी बाँहों की छाओ में
वो एक उम्र से कम तो नहीं
बाँट लेते हैं अपने ख़ुशी ग़म
इससे ज्यादा क्या करना है पाकर

ये प्यार इश्वर का प्रसाद है
वो बेवजह बांटता रहता है
कभी थोड़ा , कभी ज्यादा
कभी इस रूप में, कभी उस रूप में
वो हमसे इजाज़त लेने नहीं आता

जितना मिला है उसका स्वाद ले लेते हैं
चल .. मेरी जान..इन लम्हों को जी भरकर जी लेते हैं

Thursday, March 31, 2011

खालीपन

ये क्या खालीपन है
जो कभी नहीं भरता
ये कैसा अधूरापन है
जो कभी पूरा नहीं होता

इतने सारे रिश्ते नाते है
सब आने जाने है
कितने बंधन बांधे हैं
सब टूट जाने हैं

अंधापन ही अच्छा था
खोखली बस्तुयों का पीछा करते रहो
रोशनी नंगा कर देती है
खोखलापन साफ़ नज़र आता है

अगर दिखाई देता है मुझे
कुछ नहीं मिलने वाला ख़ाक के सिवा
फिर कैसे कदम आगे बढ़ जाए मेरे

डर तो मुझे भी है फिसलने का
हो सकता है ज़माने जीत जाए
मैं हार जाऊ,
पर तसल्ली तो रहेगी
अपने दिल की राह पर चली

चाहे चालू इस राह,
चाहे जाऊँ उस राह
मुश्किलें तो बराबर ही आयेगी
एक राह पर लोगो की भीड़ है
दूसरी थोड़ी सुनसान है

न पति, न प्रेमी , खालीपन भर पायेगा
न दुनियादारी के झमेले, पूरापन ला पायेगे
फिर क्यों फ़िक्र रहे राह चुनने की
जहाँ दिल आया बस उठाकर झोला चल दिए

Tuesday, March 29, 2011

इश्क

छुपा ले अपने दमन में कहीं मुझे
ये इश्क मेरे बस की बात नहीं
खुद का दर्द तो सह लेते हैं किसी तरह
पर उन्हें दर्द में देखा जाता नहीं

न उनके साथ रह सकते हैं ,
न उनके बिना गुज़ारा होता है
ये इश्क की क्या मजबूरी है
जहाँ कोई साहिल नहीं मिलता है

कोई दावा होती अगर इश्क तेरी
तो मैं वैद बनकर खोज कर लेती
हर अश्क जो मेरे महबूब की आँखों से गिरता
अपनी हथेली में बटोर लेती

Friday, March 25, 2011

काश

जुबां कुछ न कहती
बात तुम तक पहुँच जाती
मैं तुम्हें स्पर्श करती
तुम मेरे कंमपन्न को जान जाते

मैं तुम्हें देखती
तुम मेरी आंखें पढ़ लेते
काश तुम बिन कहे,
सब कुछ समझ जाते

कभी तनहा होकर भी मैं तनहा नहीं होती
तुम्हारा साया मुझे घेरे रहता है

कभी जकड़ा होता है तुमने बाँहों में
पर मीलों का फ़ासला दर्मिया होता है
घुटन होती है मुझे उस जकड़न में,
जहाँ तुम्हारा शरीर होता है पर तुम नहीं
काश तुम मेरी बेचैनी,
बिस्तर कि सिलवटों में देख पाते

कभी थम-थम चलती हैं मेरी सांसें
कहती है बैठो न थोड़ी देर मेरे पास
कभी डर से सहम जाती हैं
कौन जाने कल की सुबहे कभी न आये

कभी तुम्हारी सांसों में लय मिलाकर चलती हैं
कहती है कभी जुदा तुमसे होंगी नहीं
काश मेरी सांसों के उतार-चढ़ाव,
तुम महसूस कर पाते

थक गई में बोलते सुनते,
अब बोलों को किनारे करो
आने दो मुझे अपने भीतर
तुम समा जाओ मेरे अन्दर

पिघलने दो दर्द को,बन जाने दो दरिया
मिट जाने दो मुझे,हो जाने दो पूरा
काश हम दोनों सारी सीमाएं लांगकर,
दो न रहकर बस एक ही रह जाते

Thursday, March 17, 2011

बस ऐसे ही .....

हम खुदा की नहीं
खुदा के बन्दों की इबादत करते हैं
हर गली-कूंचे से मुस्कुराकर गुजरते हैं
लोग मस्जिद मज़ार पर सर झुकाते होगे
हम हर किसीको को सलाम करते चलते हैं

------------------------------
खुदा भी मेरा खुदाई भी मेरी
क्यों मुझे गरक होने का खौफ़ हो
गरक होकर भी मैं रहुगी उसीकी

------------------------------
शुक्र है मिल गई निजात मुझे इश्क से
नहीं तो न जाने कितनी बार
दफ़न होना पड़ता मरना से पहले

------------------------------
अब तो उम्र गुजरेगी तेरे इंतज़ार में सारी
पर तू ग़म न कर, ये मेरे सनम
ये गुन्हा नहीं तेरा,मौहब्बत है हमारी

-------------------------------
सुनते हैं इश्क छीन लेता है चैन सकून
देखतें हैं कितनी रातें जागकर हम गुजारेंएगे
खुद को इस आग में जलाकर
इंतिहा क्या है इसकी अजमाकर हम भी देखेगे!

-----------------------------------
मेरे मेहरबान, खुदा के लिए
मुझसे कोई वादा न मांग
क्यों वादा करवाकर मुझसे
मेरी मुहब्बत पर शक करता है

------------------------------------

अगर मिल गया तू मुझे , तो खुदा की जरूरत न रहेगी
बेवफा निकल जाना सनम, यही तेरी मुहब्बत होगी

---------------------------------------

खुदा रहमत है तेरी, बरना क्या औकात है मेरी !
मिट कर मिट्टी बन गई होती, सलामत हूँ दुआ है तेरी !
----------------------------------------

बस तू ही तू है, और जहाँ में रखा है क्या !
तू मिले तो सकूं आये, बाकी सबसे मेरा वास्ता है क्या !
----------------------------------------


मुझसे मत पूछों दोस्तों खुदा का पता, मैं तुम्हें समझा नहीं पाऊगी !
जब भी मैंने आईने देखा उसे देखा, जब भी किसी आँख में झाँका बस उसे ही देखा !
-----------------------------------------------------------

मेरा न होना ही सुन्दर है, मेरे होने से सब बिगड़ जाता है !
काश मैं ऐसे जियू, की मेरा होना भी न होना सा ही रहे !
----------------------------------------------------------

सारे ज़ख्म भर गए रूह और जिस्म के,
तूने जो नज़र भर के देख लिया !
अब रहा नहीं कुछ से मांगने के लिए,
तेरी चाहत ने हर दुआ को मुकमल कर दिया !

----------------------------------------------------------
गम के साथ जीने की आदत हो गई है,
ख़ुशी से दिल सहम जाता है !
मुहब्बत में बेवफाई की आदत हो गई है,
तेरी बफाओं से डर लगता है !

मन

मन के खेल निराले
कभी खुद से जीते
कभी खुद से हारे
ले उलझाय मुझे
बुने जाल बेहिसाब

एक नहीं कई हैं मन मेरे
एक मन कहे दुनिया प्यारी
दूसरा कहे कैसी व्यथा पाली
तीसरा कहे त्याग दे सब प्यारी
किस मन से जीतू किस मन से हारू
किस मन की मानू किस मन को मना लूँ

रोज बदले रूप मन मेरा
जो कल था वो आज नहीं
जो आज है कल होगा
इसका भरोसा नहीं है
किस रूप को अपना कह दूँ
किस रूप को पराया कह दूँ

है मन मेरा !!
सोने का पिंजरा
मैं मैना सी उसमे फंसी
चाबी मेरे पास पड़ी
पर मैं कभी निकल न सकी

कभी निकल भी जाती एक पिंजरे से
तो दुसरे मैं खुद ही घुस जाती
आदत है मेरी पुरानी
मन की गुलामी करने की

गुरु बदला, संगत बदली
पर मन के खेल कम न हुए
मंदिर छोड़ा, मस्ज़िद छोड़ा
पर विचारों में परिवर्तन न आया

दीवारों का बदल गया है रंग
घर जैसा था वैसा ही रह गया

Tuesday, March 1, 2011

ज़ख्म

कुछ ज़ख्म ज़िन्दगी में कभी नहीं भरते
करो चाहे कितने भी जतन
तुम्हारा हाथ नहीं छोड़ते

देश छोड़ों, घर-वार छोडो
चाहे दुनिया से मुहं मोड़ों
वो तुम्हें तनहा नहीं छोड़ते

जिधर चलते हो, तुम्हारे साथ हो लेते हैं
सिसकियाँ भरो, दिवार से सर पटको
पर वो अपने मौसम में हरे हो ही जाते हैं

Friday, February 25, 2011

कल्पनाओं की उड़ान

लगाने दो पंख मुझे
अपनी कल्पनाओं के
उड़ने दो कहीं
क्या अच्छा क्या बुरा
मुझे नहीं पता

आकाश सा लहराने दो
सागर सा विस्तार पाने दो
क्या झूठ क्या सच
मुझे नहीं पता

अमृत है ये या ज़हर
इसका फैसला बाद में होगा
अभी जो सामने है उसे पीने दो
कोई मेरे साथ आयेगा या नहीं
ये उसकी मर्जी है
मुझे मेरे पथ पर बड़ने दो

बांधों मत किसी बंधन में
उड़ जाने दो कल्पनाओं के साथ कहीं

मत समझाओं मर्यादा का सबक
रखो सारा ज्ञान अपने पास
मुझे नहीं जानना मेरी मंजिल कहाँ है
पर जो विस्तृत धरातल है मेरे सामने
उस पर दौड़ जाने दो मुझे

स्वर्ग नरक तुम्हें मुबारक
उनके नाम लेकर,
मेरी कल्पनाओं की पतंग मत काटा करो

मैं नहीं उतर पाऊंगी खरी
तुम्हारी आशाओं की कसौटी पर
बार बार कटघरे में खड़ा मत किया करो
सुना करो कभी मेरी भी आवाज
अपनी आवाज इतनी ऊँची मत किया करो

तुमने क्या पाया है
इस पथ पर चलकर
जो मुझसे इस पथ पर
चलने का आग्रह करते हो
जाने दो मुझे जहाँ जाना है
क्यों पाप पुन्य को बीच में घसीटते हो

मुझमें भी प्राण है
मुझपर अपने विचारों को लादकर
वस्तु में परिवर्तित करने का प्रयास मत किया करो

कितनी बड़ी कीमत लगाते हो
इस समाज में बसर करने की
अत्मा तक तुम्हारी गुलाम रहे
ऐसी शर्ते मत लगाया करो

नहीं मानती मैं किसी शर्त को
मुझे अपनी कल्पनाओं की उड़ान भरने दो
होने दो अपने पैरों पर खड़ा
मुझे अपंग बनाने का प्रयास मत किया करो
रखों अपनी तिजोरी को अपने पास
ये जलवे मुझे दिखाया मत करो

शुभचिंतक हो या दुश्मन
सोच समझकर पिटारा खोला करो
क्यों ज़िद पर अड़े हो
तुम्हारे जैसी बनकर जियूं
मुझे खुली हवा में अंगडाई लेने दो
उड़ जाने दो कल्पनाओं के साथ कहीं
अब गिर पडूँ या फिसल पडूँ
इसका जिक्र तुम मत करो

क्यों समंदर की गहराई दिखाते हो
इसमें तैरना सिखा दिया करो
क्यों आंधियों से डराते हो
टूटे घरोंदा को बनाना सिखा दिया करो
क्यों मौत की दहशत जगाते हो
इससे पार जाने का मार्ग बता दिया करो

कुछ नहीं कर सकते तो ठीक है
कम से कम पथ में ,
रोड़े लाकर तो मत डाला करो
डूब जाने दो जहाँ से निकला न जा सके
पर किनारे पे खड़ा होने के लिए मत कहा करो

मुझे अपने पाप पुन्य का हिसाब करने दो
तुम क्यों अपने ग्रन्थ खोल
मेरे कर्मो का जोड़ भाग करते हो
मैंने तो कभी नहीं कहा तुमसे कुछ
तुम क्यों मेरे करने में अड़चन डालते हो

उड़ जाने दो कल्पनाओं के साथ कहीं
मुझसे मेरा पता मत पूछा करो
मुझसे मेरा पता मत पूछा करो

Wednesday, February 23, 2011

माँ

एक गहरी प्यास है कहीं
जो कोई रिश्ता बुझा नहीं पाता
तेरे सीने में जो गर्मी थी
कोई मुझे दे नहीं पाता

तेरे संग थी तेरा अंग थी
पूरी थी माँ
जब से अलग हुई
तब से प्यासी हूँ
तब से भटकी हूँ

वो प्यास न बुझी
वो तेरी सीने की गर्मी न मिली
वो बेफिक्री की रातें न कटी
किसी की छाती से चिपक्के सकून की सांस न ली

तू भी पराई हो गई कुछ महीनों मैं
कभी मैं और तू एक ही थे
एक साथ साँस लेते थे
दिल की धडकनों के तार जुड़े थे
तेरा हिस्सा बनकर तेरे अन्दर जिंदा थी

बीत गए वो पल
पर उनकी लौ आज भी जलती है कहीं
उन्ही पालो के लिए तसरती हूँ कहीं

जब दुःख के बादल मंडराते थे
तू छुपा लेती थी मुझे अपने भीतर
अब किसके साथ एक होकर
जिया करूँ मैं

माँ,
उन पलों को , एक बार और जीने दे मुझे
अपने गर्भ के सुख को, एक बार और चखने दे मुझे
मेरी भटकती हुई बेजान मंजिलों में
एक जान डालके हरी करदे

समेट ले मेरी रूह को अपने भीतर
क्या करू मैं सब पाकर
क्या करू मैं बादशाह बनकर
क्या करू में दुनिया जीतकर
जब जान लिया मैंने
तेरे अन्दर जो सुख मिला
वो कहीं और नहीं है मिलने वाला

Monday, February 14, 2011

नाटक

हर कोई दलदल में फंसा है
किससे क्या शिकयत करू
जिसे देखो गड्डे में गिरा है
किससे क्या उम्मीद रखूं
सोचती थी मेरे सिवा
हर कोई साफ़ पानी में खड़ा है
अब जाकर जाना
सब मेरे साथ कीचड में धसे हैं
सारी उमीदें दम तोड़ चुकी हैं मेरी
किसी और ने नहीं
अब मैंने ही उनका दामन छोड़ दिया है

जब नहीं है भरोसा खुद का
किसी और को जकड़कर मैं क्या करूँ?

किस पर अपना गुस्सा उड़ेला करूँ ?
हर कोई गुस्से से पगलाया है
किसके कंधे पर सर रखकर रोया करूँ
जिसे देखो उसका दमन दर्द से भरा है

ये कैसी है ज़िन्दगी?
किससे कहूँ मैं आखिर कि मुझे चोट लगी है
थोड़ा मरहम लगा दो
हर किसीने बेशुमार ज़ख्मों का ख़जाना छिपा रखा है

कहीं भनक न लग जाय पड़ोसी को
किसी ने हंसी का मुखौटा चढ़ा रखा है
तो किसी ने काम को हर ज़ख्म की दवा बना रखा है
जिसे देखो वो भाग रहा है अपने आपसे
कोई उड़ाता है धुएं में ज़िन्दगी का ग़म
और किसी दिन वो भी इस धुय में फ़ना हो जाता है
कोई बैठा रहता है मैहखाने में भूलकर सबकुछ
और दम तोड़ देता है वही पर आखिर

भाग तो नहीं पाता है कोई अपने आपसे
पर इस नासमझी में सारी उम्र गुजार देता है
जिसे आ जाय होश इस भागमभाग में
वो ज़िन्दगी के नाटक का दर्शक हो जाता है
जब मैं बन जाती हूँ दर्शक इस नाटक की
अधिकत्तर लोगो को बेचारा पाती हूँ

करुणा उभर आती है हर किसी के लिए ह्र्दय में
थोडा सा प्यार से किसी को गले लगा लेती हूँ
कुछ घड़ियाँ साथ में बैठ जाती हूँ
थोडा सा ग़म बाँट लेती हूँ किसीका
थोड़ी हंसी ले आती हूँ किसी के होठों पर

पर जब बन जाती हूँ उसी नाटक का हिस्सा
तो उन्हीं मजबूर लोगो पर अपनी उमीदों का
भारी भरकम बोझ डाल देती हूँ
सारी हक़ीक़त अनदेखी कर जाती हूँ
बैल से दूध निकालने लगती हूँ
भैस पर सफ़ेद लीपा पोती करके,
उसे गाय बनाने में लग जाती हूँ
हर कोई बदल जाय कुछ और बन जाय
ऐसी अंधाधुंध कोशिश में लग जाती हूँ

नतीजा तो ख़ाक निकलता है कोशिश का
पर मैं जरूर नाटक में शामिल हो जाती हूँ
ओर ज़िन्दगी बोझ लगने लगती है
जिसे ढो रहा है हर कोई
मिल गई है तो कटती जा रही है

जब दर्शक होती हूँ इस नाटक की
तो ज़िन्दगी का रुख ही बदल जाता है
सबकुछ हसीन लगने लगता है
मरना भी, जीना भी
हँसना भी, रोना भी
प्यार करना भी, बिछड़ना भी
ज़िन्दगी वही रहती है जैसी है
तुम नाटक में शामिल हो या दर्शक हो
बस इसी बात से हर बात बदल जाती है

Friday, February 11, 2011

बेचैनी

आँखों में थकान है
बेचैन रात है
न जाने किसका इंतज़ार है

कोई नाम नहीं है होंठों पर
दिल का मंदिर खाली है
सन्नाटे में केवल झींगुर का गीत गूंज रहा है

एक अधूरा ख़त पड़ा है मेज पर
पता नहीं कभी पूरा होगा या नहीं
एक किताब खुली है कोने में
महीनों से एक ही पन्ने पर लटकी है

इतना कुछ फैला है हर तरफ
फिर भी फुरसत है बहुत
अपना हाल तुझे सुनाने की

सोचती थी तेरे जाने के बाद
इन बेचैनीयों से राहत मिल जायेगी

पर आलम अब और भी गंभीर है
कम से कम पहले कोई नाम तो था

ये बेनाम बेचैनी
तेरी बेचैनी से भी ज्यादा बेचैन करती है

तू कभी ख्वाब में ही सही
आ तो
सन्नाटे में आंधी लाने
नैनों में घना सावन लाने
कभी बाँहों में छुपाने
कभी दूर जाने

किसी भी बहाने से आ
कोई भी नाम लेकर आ
उन पुरानी बेचैनियों लौटाने आ
कहाँ है तू ?
कभी तो आ...

Thursday, February 10, 2011

झुरियाँ

जब कभी देखती हूँ चेहरा आईना में
न चाहते हुए भी मेरी निगाहें बार बार
मेरी झुरीयों पर आकर स्थिर हो जाती है
बचपन में चहरे पर कोमलता और मासूमियत थी
जवानी में कुछ कर दिखाने का जोश और जूनून
अब बस एक गहरा ठहराब और ये झुरियाँ
कितना कुछ कहती हैं ये झुरियाँ

मेरे जीवन संघर्षो की पूरी दास्तान इनमे छिपी है
कभी गिरते गिरते संभली हूँ मैं
कभी गिरकर चोट खाकर खड़ी हुई मैं
कभी तपती धूप में,
स्कूल के लिए मीलों चली हूँ मैं
कभी खुद को तपाया है उस धूप में
नौकरी न मिलने पर
कभी बारिश में ठिठुरी हूँ मैं
कभी एक रूपये के लिए तरसी हूँ मैं
कभी इस चहरे के सोंद्य्रे पर,
दिवाने हुए हैं लोग कई बार
कभी इसके दाग धब्बे देखकर
मुहँ मोड़कर चले गए कई लोग

ये झुरियाँ सबूत हैं
बचपन के गुजर जाने का
जवानी में खाई ठोकरों का
कुछ साल में आने वाले
बुडापे का

समझ नहीं आता
हर कोई जवान क्यों बना रहना चाहता है
इन झुरीयों से इतना क्यों घबराता है
हर रोज नए नुस्के बेचे जाते हैं बाज़ार में,
कैसे रहे चेहरा जवान बुड़ापे में
किसी तरह से टल जाए इन झुरीयों का आना
कुछ दिन, कुछ महीनों या फिर कुछ सालों के लिए
पर समय के पाइये को कैसे रोकेगे दोस्तों
बाहर बदल भी लो तो क्या
अन्दर के जगत को कैसे बदलोगे

हो सकता है मिल जाय कोई
इस चहरे पर दुनिया लुटाने वाला
तुम्हारी खूबसूरत जुल्फों पर
ग़ज़लें सुनाने वाला
चमकते नेनों में डूबने वाला

पर कभी तो आयगा वो दिन
जब सब कुछ छूट जायगा प्यारे
बुडापा चोखट पर खड़ा दस्तक देगा
उस दिन क्या दोगे जवाब
लौटा दो मेरी जवानी के दिन
ले जाओ ये लाठी हाथ की मेरी
होने दो सीधा खड़ा मुझे

कैसा समाज है ये
चेहरे पे लटकता है
जुल्फों में अटकता है
गंगा में पाप धोता है
पुन कमाने के लिए काशी जाता है
जब मरने का समय आय
तो राम राम जपता है
सारा जीवन व्यर्थ गवाया
ये सोच रोता रोता
दुनिया से विदा लेता है
मरना जीवन का अंत सत् है
जो उसने समेटा सब रह जाना है
मरते वक़्त ही जान पाता है

Friday, February 4, 2011

आइना

कई बार मैं महान बनने की कोशिश करती हूँ
उस कोशिश में बेतुके से कारनामे होते है

जो महान लोगो ने पुस्तके पढ़ीं,
मैं भी वही पढ़ने लगती हूँ
इतना मजा तो नहीं आता
पर बहस हो किसीसे तो
उनके काव्य का उपयोग करती हूँ

जो महान लोग पोशाक पहनते हैं
मैं भी वैसे ही पहनने लगती हूँ
सुन्दर तो नहीं लगती
पर भीड़ में अलग दिखाई देती हूँ

उन्होंने जिस कलाकार को सरहाया
मैं भी उसके गान करने लगती हूँ
वो जिन शब्दों में अपने को व्यक्त करते हैं
मैं भी वही भाषा दोहराती हूँ

जो कुछ भी महान लोग करते है
मैं हुबाहू करती हूँ
जाने कहाँ चूक जाती हूँ
महान नहीं बन पाती हूँ

मेरी हाव भाव देखकर
दुनिया की नज़रों में,
मेरी हैसियत थोड़ी बड़ जाती है
पर अपनी नज़रों में,
खुद का बजूद लड़खड़ाती पाती हूँ

आइना ठहाके मारकर हँसता है
किसे ठग रही है ?
तेरी हकीक़त तुझे पता
गिराले परदे चाहें जितने
बेपर्दा तो होना है आज नहीं तो कल
लूटले तारीफें जितनी चाहे लोगो की
पूरी करले तमन्ना दिखावा करने की

कभी तो अपने घर लौटेगी
जब ऊब जाए दिल तेरा पर्देदारी से
न रहे कोई रस तारीफों में
न रहे कोई पीड़ा आलोचनाओं में
न रहे उत्साह महानता को गले लगाने में
न रहे डर हैसियत मिट जाने में

आ जाना मेरे पास तू
देखलेना अपनी असली सूरत तू
जो आंखें छिपती है इतने सारे राज
उन सारे राजों को बहा देना तू
पानी सी बेरंग होकर
मेरे रुबारु आ जाना तू

Thursday, February 3, 2011

खेल

आज ढलते सूरज की आड़ में से,
मैंने चुपके से एक खेल देखा
तो मेरी हँसी बेकाबू हो गई
लोग पागलखाने में ना डाल दे
ये सोचकर थोड़ी सहम गई

ज़र्रे ज़र्रे में खुदा है
उसीकी रहमत से संसार सारा है
न कुछ भला है न कुछ बुरा है
सब उसी का रचा है

वो मिटाता है वो ही बनाता है
वो पैदा करता है वो मारता है
जाने कितने हज़ारों सालों से
ये खेल वो खेल रहा है

हम इस खेल के खिलाड़ी हैं
पर हमें इसकी भनक ही नहीं है
वो मजे लूट रहा है इस खेल में
हम लुट रहें हैं बेवजह इस खेल में

कैसा खेल है ये,
खिलाडियों ने इसे महायुद्ध समझ रखा है
अपने हिसाब से टोलियाँ में बाँट रखा है
प्रेम, बैर का दस्तूर निभाया जा रहा है
कोई किसी का खून कर रहा है
कोई खुद को ही फांसी पे लटका रहा है
किसी को प्रेम की प्यास है
कोई हर चीज से निराश है

पर इस खेल का कप्तान ,
शांत चित से धूप सेक रहा है
वाह रे खुदा क्या अनोखा खेल बुना है

जीवन

होने और करने में
थोड़ा सा अंतर है
जो समझले इस अंतर को
वो जीवन के झमेलों से मुक्त है

क्या मेरे बस में है
क्या मुझसे परे है
जो परे है वो बस परे है
उसे छीनाझपटी से पाना असंभव है
जिसके पल्ले इतनी सी बात पड़ गई
वो जीवन ऐसे जीता है
जैसे नदी में पत्ता बहता है

जो कुछ भी आनंद का स्रोत है
वो ऊपर से अवतरित होता है
जबतक होता है बस होता है
जब जाना होता है चला जाता है
कोई तारीख बताकर नहीं जाता है

पीड़ा का
स्रोत भी वही है जो आनंद का है
इंसान असमर्थ है
न वो असीम आनंद पैदा कर सकता है
न वो अनंत पीड़ा को ही जन्म दे पायगा

जो आनंद को कसने का प्रयास न करे
पीड़ा को देखकर भागता न हो
बस अपनी झोली फैलकर रख ले
जो मिल जाय उसे माथे से लगा ले

आनंद में नृत्य का रस पीले
पीड़ा में अश्रुओं का जाम ले ले
जो इस कला में पारंगत हो गया
उसके जीवन के सारे अँधेरे मिट गए

Sunday, January 30, 2011

अरे बन्दे !! कभी तो अपने अन्दर झाँका कर

किस बात का इतना घमण्ड है तुझे
जो इतनी अकड़ में तू रहता है
अपनी इस सूरत पर
जो खैरात में मिली तुझे
किसी को काली मिली
किसी को गोरी मिली
कोई नाटा रह गया
कोई लम्बा निकल गया
किसी की आंखें सुन्दर
किसी की नाक सुन्दर
पर तूने तो इसे नहीं बनाया
खैरात में मिली चीज पर
तू इस कदर क्यों इतराता है
कुछ तो लिहाज किया कर
अरे बन्दे !!!
सच क्या है जाना कर
कभी तो अपने अन्दर झाँका कर


किस बात का इतना घमण्ड है तुझे
जो इतनी अकड़ में तू रहता है
अपने मज़हब पर
इसे तूने इबादत से नहीं कमाया
तू पैदा हुआ जैन घर
पर तू महावीर नहीं बन पाया
तू पैदा हुआ मुस्लिम घर
पर तू मुहम्मद नहीं बन पाया
महावीर, मुहम्मद से लिया ज्ञान उधार
उधारी के ज्ञान पर इतनी शान
कि तैयार हो जाता है तू
लेने किसी और की जान
अरे बन्दे !!!
सच्चे मज़हब को पहचाना कर
कभी तो अपने अन्दर झाँका कर

किस बात का इतना घमण्ड है तुझे
जो इतनी अकड़ में तू रहता है
अपने कागज के टुकड़ों पर
अपने मारबल के बने घरों पर
कभी तो गिनती कर लिया कर
कितने टुकड़े लेकर जायेगा साथ
कितने मारबल बाधेगा अपने पास
जितना भिखारी लेकर जायेगा
तुझे भी उतना ही मिलेगा
क्यों जीवन व्यर्थ में गवाता है
अरे बन्दे !!!
जो ले जा सके अपने साथ,
कोई ऐसी पूंजी इकठी किया कर
कभी तो अपने अन्दर झाँका कर

किस बात का इतना घमण्ड है तुझे
जो इतनी अकड़ में तू रहता है
अपनी उपाधियों पर,
जिन्हें पाकर तू ऊँचा उठ जाता
और बाकी सब छोटे हो जाते
पर उपाधियाँ पाकर,
तेरे दिल का विस्तार कहाँ हो पाता
वो तो जैसा है वैसा ही रह जाता
जो बनते है रिश्ते दिल की डोर से
वही आत्मा को तृप्त कर पाते हैं
तू बनाता है रिश्ते उपाधियाँ तौलकर
वो आत्मा तक कहाँ पहुँच पाते
अरे बन्दे !!!
उपाधियों के झांसे में आकार
तू अपनी आत्मा को भूल जाता है
सच क्या है जाना कर
कभी तो अपने अन्दर झाँका कर

किस बात का इतना घमण्ड है तुझे
जो इतनी अकड़ में तू रहता है
अपने देश पर,
कल भारत था आज बंगलादेश है
इस दुनिया में तू कहीं भी जाकर बसे
दुःख में रोता है सुख में हँसता है
भूख में बिलखता है प्रेम में नाचता है
इंसान है तू इंसान ही रहता है
फिर खुद को क्यों अलग करता है
जब अन्दर कुछ अलग है ही नहीं
सब गवा देगा तू
इस झूठे घमण्ड की खातिर
निगल जायेगी ज़िन्दगी यूही
मर जायेगा खाली हाथ
अब तो अपने अन्दर झाँक !
बन्दे अब तो अपने अन्दर झाँक !

Monday, January 24, 2011

खुदा मेरे....

टुकड़ों टुकड़ों में क्यों मिलता है
कभी तो पूरा आकर मिल मुझसे
दुनिया मुझे बेगानी लगती है
दुनिया को लगती मैं पागल

ये कौन सा रहस्य है
जो तूने मेरे भीतर जड़ा
निडर अँधेरे में चलती हूँ
अकेले अकेले मुस्कुराती हूँ
ना बीता कल मुझे सताता है
ना आने वाले कल का बोध रहता है

कभी व्याकुल होकर रोती हूँ
कभी मस्ती से भरपूर झूमती हूँ
इतना नाचती हूँ कि
पांव में छाले पड़ जाते हैं
इतना रोती हूँ कि
आँखें सूज जाती हैं

किसी से जाकर मैं कहूं भी क्या
इस व्याकुलता में अजब सी मस्ती
इस मस्ती में चुभती व्याकुलता
चुपचाप ऐसे ही बैठी रहती हूँ रातों में
आँखों को मूँद घंटों तक
ना फ़िक्र होती है आईना देखने की
ना जरूरत लगती है काज़ल की

ये मेरा भ्रम है या हकीकत
तेरे मिलन की प्यास है जगी
या दुनिया से हुई थकान मुझे
कुछ तो आकर समझा दे

ये कौन सा रोग लगा मुझे
मैं होकर भी कहीं नहीं होती
नाचती हूँ पर मैं नहीं नाचती
बस नाच होता है मैं नहीं होती
लिखती हूँ पर मैं नहीं लिखती
बस शब्द मेरे होते है और भाव तेरे
लगता है मैं हूँ ही नहीं कहीं

हल्का सा दर्द भरा रहता है सीने में
कदम उठते हैं थम थमकर
कहने सुनने को कुछ नहीं रहा
सुनसान हुआ बाज़ार सारा
सारे बंधन छोड़कर
लगे तेरा बंधन प्यारा
कैसे कच्चे धागे से तूने
लिया अपनी ओर खीच मुझे
हर चीज बेमतलब हो गई
तेरी धुंधली सी झलक पाकर

क्या हूँ मैं तेरा अंग खुदा
जो बिलखती हूँ तुझसे बिछड़कर
ना होश रहे खुद का
ना आये ख़याल किसी दूसरे का
हर बात शुरू ख़त्म तुझसे
हर बात में जिक्र तेरा

गिर पडूँगी कहीं चित होकर
हो जायेगा ख़त्म अस्तित्त्व मेरा
अब इससे ज्यादा मत आजमा खुदा मेरे

टुकड़ों टुकड़ों में क्यों मिलता है
कभी तो पूरा आकर मिल मुझसे

Thursday, January 20, 2011

हाय ...दिल तेरी बेहयाई

हाय !! दिल तेरी बेहयाई
इतनी बार ठोकर खाई
पर तुझे हया ना आई
कल किसी के लिए धड़कता था
आज किसी और के लिए आहें भरता है
फिर ग़ालिब की ग़ज़लों में डूबता है
फिर मैफिलों में तू तनहा सा खड़ा होता है
हाय !! दिल तेरी बेहयाई

फिर नींद गवा दी तूने
सारी रात करवटें बदलतें बिताई
भूल गया सारे ज़ख्म पुराने
जब उसकी नज़र तेरी नज़र से लड़खड़ाई
इंतज़ार में गिनने लगा तारे तू
फिर चाँद में किसीकी सूरत दी दिखाई
हाय !! दिल तेरी बेहयाई

किसीके आलिंगन में तूने
फिर से ईशवर की परछाई पाई
रखकर सर उसके सीने पर
सारी खुशबू अपनी धड़कनों में समाई
अब अगर विदा हो भी जाए वो और तू
तो भी तूने बस इस पल के लिए दी दुहाई
हाय !! दिल तेरी बेहयाई

फिर ये मेरे दिल !!
तू वादों पर याकीन करने लगा
किसीकी मुस्कराहट पर मरने लगा
बजते हैं जो राग तेरे अन्दर
उन्हें मेरे चहरे से छलकाने लगा
जो चला गया उसका तुझे ग़म नहीं
जो हैं उसके साथ फिर तू सपने सजाने लगा
हाय !! दिल तेरी बेहयाई

Tuesday, January 18, 2011

मौला

मेरा अपना क्या है मौला
सब तेरा ही है

तू जिस भी रूप में आयेगा,
मैं स्वीकार कर लूंगी

तू हंसी बनकर आयेगा,
तो खिलखिलाकर हंस लूँगी
तू आंसू बनकर आयेगा,
तो आँखों से बहने दूंगी

मैं क्यों जानूं ?
अपनी ख़ुशी की वजह
मैं क्यों पूछूँ ?
अपने गम का सबब

ये तन तेरा, ये मन तेरा
ये खुशी तेरी, ये गम भी तेरा

अब ना कोई सवाल हैं
ना किसी जवाब की उम्मीद
जब सबकुछ तेरा ही है मौला
तो ये सवाल भी तेरे , इनके जवाब भी तेरे

मैं तो कोरा कागज हूँ
तू अपने रंग भरता जा
अब तुझे कोई रोक टोक नहीं
जब तेरा मन हो चला आ
बहाकर ले चल कहीं भी
मैं संग तेरे चली आऊँगी
ना फ़िक्र है मरने की मौला
ना खोने को कुछ रहा

सब लुट भी जाये और मैं बन जाऊं फ़कीर
फिर भी क्यों डरूं ?

ये जान भी तेरी, ये शान भी तेरी
तू छीन ले सब, जब मर्जी हो तेरी
मिटा दे मेरी हस्ती, जब ना रहे जरुरत तेरी

मुस्कुराकर मिट जाऊँगी, तुझमें ही कहीं समा जाऊँगी
ये मुस्कराहट भी तेरी, ये मस्ती भी तेरी
जो चाहे कर ले मेरे मौला ,
अब तो हो चुकी हूँ तेरी
अब तो हो चुकी हूँ तेरी

Overflowing Happiness

Right now, I am feeling as if I never had any past and I directly landed to Oracle office from the sky.

Sometimes when happiness is overflowing. Past disappears and there are no worries about future. There is unknown masti in heart and you walk like a graceful dancer. You smile whoever cross your ways. If you are a software engineer and have those heights of happiness. Please go to washroom and dance. For me, washroom is best place to express overflowing happiness, overloaded sadness and uncontrollable anger. Thanks to Oracle for having clean and spacious Washroom. It has saved my job and my sanity is still intact in my colleague's eyes. People in my cubicle have become in habit of some of my abnormal activities such as I laugh and smile without much of interesting reasons. And sometimes I remain silent and don't look at them at all.

Ahha... feeling of happiness without any reasons as if I am flying with long wings. Body is weightless. A little fear, that it might leave me any moment and again I will be on the ground. But who cares... right now.flowers are showering on me from heaven. I am listening my heartbeat and breathe is relaxed. Eyes are twinkling like a child. Lips have no words but a mysterious smile. And I am feeling I have become really beautiful. I know this beautiful face. It glows only when existence decides to bless me with its abundant love and wants me to listen its songs and take a jump beyond routine chores. It feels as if I am carrying something very delicate thing in my womb. And every part of my body is dancing in silent rhythm with whole world. If there were no one in office I would have danced here and now in my cubicle.

How to hide this overflowing happiness?

Even my nails are doing khathak with keyboard and my hair are coming out of my ponytail. Ohhh God!! you have given me so much which I can't contain in me. Is there any way? I can show my gratefulness to you for this overflowing happiness. From where its flowing in my heart and where it is going from my heart. Will it enter into somebody else heart or it will go back to you and merge into you.

I am so small. My own happiness is just tiny and remains only on lips. But your blessings enters in every pore of my body, my soul and my heart. Sometimes I sit alone and laugh loudly and everything seems laughing with me...these tress, river and even rocks. People get scared seeing me sitting and laughing but they don't know what I am drinking. I drink your love and every time this love go one step deeper in me. Sometimes, I sing something which I never remember later and dance with my own shadow. My flatmates don't feel scared seeing me singing and dancing anymore. They wait when I would come back from this unknown state and cook dinner. Now, they have become in habit of my masti and tears.

God...you have given more than I deserve. My eyes are about to cry in your gratefulness. I am nobody and I have no great talent. I am not a true person. I lie so many times. I break heart also. But you give me unconditional love through so many sources. What can I say for your love? My love is limited only in few words. You take me beyond those boundaries without any of my efforts. Did you forgive all of my mistakes? Or those mistakes are not counted in your love. They are just like a sugar in tea.

So many times, I doubted you but you kept sending me gifts of love and compassion in so many different forms. Now, in this ultimate moment of happiness... What words I say to you. You are entering in me and I am losing my identity. Eyes are closing now. Mind is going out of words. I am here still I am not here. My body is at one place still I am feeling its in whirlpool. What else to say...allow me to close my eyes and drink this overflowing happiness.